fbpx
0
was successfully added to your cart.

Cart

शंख बजाने से होंगे चमत्कारी लाभ

By August 16, 2022 Blog

भारतीय संस्कृति में शंख का विशेष महत्व है। समुद्र मंथन से जिन नौ अनमोल रत्नों की प्राप्ति हुई उसमें से एक शंख भी है। प्राचीन काल में शंख पवित्रता का प्रतीक है और इसे विजय का सूचक भी माना जाता था था। शास्त्रों की मानें तो शंख बजाने के बहुत से धार्मिक महत्व होते हैं और वैज्ञनिक कारणों से भी शंख बजाने के कई फायदे होते हैं।

आइए आज जानते हैं इस अत्यंत प्रभावकारी शंख को बजाने के फायदे।

धार्मिक फायदे

1. शास्त्रों में शंख की ध्वनि को बड़ी ही कल्याणकारी बताया गया है। कहते हैं जहां तक भी शंख की ध्वनि पहुंचती है, वहां तक के लोगों का कल्याण हो जाता है। मंदिरों में या घरों में पूजा के वक्त या किसी भी शुभ कार्य में शंख को बजाया जाता है। भारतीय परिवारों में और मंदिरों में सुबह और शाम शंख बजाने का प्रचलन है।

2. घर में शंख रखने से बहुत लाभ मिलता है। इससे हर कार्यक्षेत्र में वृद्धि होती है और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। शंख बजाने से व्यापार में भी बढ़ोतरी होती है।

3. शंख को हमेशा दक्षिण दिशा में ही रखना चाहिये। ऐसा करने से व्यक्ति को मान-सम्मान और प्रसिद्धि मिलती है। लेअगर उसे घर के लिविंग रुम की दक्षिण दिशा में रखें, तो ही आपको लाभ मिलेगा।

4. अगर आपके के घर में क्लेश हो और आपका मन बार-बार उन्ही बातों को लेकर उदास रहता है तो आप अपने लिविंग रुम में शंख को दक्षिण-पश्चिम दिशा में ही रखें।इससे आप रिश्तों में मधुरता ला सकते हैं।

5. जिस घर में नियमित रूप से शंख बजाता है वहा माता लक्ष्मी और शिव जी की कृपा रहती है ।माता लक्ष्मी को शंख बहुत ही प्रिय है, शुक्रवार में शंख बजाने से माता बहुत ही प्रसन्न होती है और घर में खुशहाली आती हैं। और शिव जी को भी शंख प्रिय है।इनको भी दिन आप शंख से जलाभिषेक कर सकते है।

6. शंख बजाने से घर के अंदर आने वाली नकारात्मक शक्तियां भी दूर रहती हैं।

वैज्ञानिक फायदे

शंख बजने के अनगिनत शारीरिक और मानसिक लाभ होते है।

1. रोजाना शंख बजाना गुदाशय की मांसपेशियां, मूत्र मार्ग, मूत्राशय, निचले पेट, डायाफ्राम, छाती और गर्दन की मांसपेशियों के लिए काफी कारगर साबित होता है। शंख बजाने से इन अंगों का व्यायाम हो जाता है।

2. शंख बजाने से श्वास लेने की क्षमता में सुधार होता है।हर रोज शंख बजाने वाले लोगों को गले और फेफड़ों के रोग नहीं होते। बार-बार सांस भरकर छोड़ने से फेफड़े भी स्वस्थ्य रहते हैं। शंख बजाने से योग की तीन क्रियाएं एक साथ होती है। कुम्भक, रेचक और प्राणायाम।

3. इससे आपकी थायरॉयड ग्रंथियों और स्वरयंत्र का व्यायाम होता है। बोलने से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है।

4. शंख बजाने से चेहरे की मांसपेशियां में खिंचाव आता है आपकी झुर्रियों की परेशानी भी कम हो सकती है।

5. शंख में सौ प्रतिशत कैल्शियम होता है। रात को शंख में पानी भरकर रखें और सुबह उसे अपनी त्वचा पर मालिश करें। इससे त्वचा संबंधी रोग दूर हो जाते है।

6. शंख बजाने से मानसिक तनाव भी दूर हो जाते हैं क्योंकि शंख बजाते समय दिमाग से सारे विकार चले जाते हैं। इससे स्मरण शक्ति भी बढ़ती है।

7. शंख बजाने से आप दिल के दौरे से भी बच सकते हैं। शंख बजाने से सारे ब्लॉकेज खुल जाते हैं।

8. शंख की आकृति और पृथ्वी की संरचना समान है। वैज्ञानिको के अनुसार शंख बजाने से खगोलीय ऊर्जा का उत्सर्जन होता है। जो जीवाणु का नाश कर लोगों में ऊर्जा शक्ति का संचार करता है।

9. शंख में कैल्शियम गंधक और फास्फोरस काफी मात्रा में पाए जाते हैं। यह तत्व हड्डियों को मजबूत करने के लिए बहुत जरूरी होते हैं। शंख में रखे पानी का सेवन करने से दांतो को भी फायदा मिलता है।

Leave a Reply