fbpx
0
was successfully added to your cart.

Cart

निर्जला एकादशी व्रत 2022

By June 9, 2022 Blog

भगवान विष्णु के िये किया जाने वाला निर्जला एकादशी व्रत अपने तपस्वी उपवास और कठोर तपस्या के लिए जाना जाता है। निर्जला एकादशी को पांडव एकादशी या भीमसेनी एकादशी या भीम एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। ‘निर्जला’ शब्द का अर्थ है ‘बिना पानी’ और इसलिए इस एकादशी का व्रत बिना पानी पिए और बिना खाना खाए मनाया जाता है। साथ ही यह व्रत गर्मी के मौसम में पड़ता है, इसलिए भोजन, पानी से पूरी तरह परहेज करना कोई आसान काम नहीं है। निर्जला एकादशी व्रत 24 घंटे तक चलता है, एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक।

निर्जला एकादशी सभी एकादशियों में सबसे कठिन और सबसे पवित्र है और इस व्रत को अत्यंत भक्ति और तपस्या के साथ पूरा करना वर्ष के दौरान अन्य सभी एकादशी व्रतों को पूरा करने के बराबर है और सबसे अधिक फलदायी भी है।

निर्जला एकादशी की पूजा :

निर्जला एकादशी के दिन भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की पूरे समर्पण के साथ पूजा की जाती है। व्रत के दिन सुबह शुद्ध होकर भगवन के सामने व्रत का संकल्प करते हैं। भगवान का पूजन में धूप, दिया, तुलसी के पत्ते, फूल, फल और मिठाई चढ़ाते हैं। भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी की मूर्ति को सजाकर उसकी पूजा की जाती है। विष्णु सहस्त्रानाम स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। निर्जला एकादशी व्रत के उपासक को पूरी रात जागकर रहना चाहिए और भजन और कीर्तन करना चाहिए। निर्जला एकादशी व्रत के दौरान गरीबों को अन्न, वस्त्र, बिस्तर, छाता और जल के पात्र का दान करें। इस दिन ब्राम्हण को जूते का दान करना बहुत फलदायी होता है। इस दिन पेड़ के नीचे पशु-पक्षियों के लिए दाना-पानी रखें। इस दिन जरूरतमंदों को भोजन कराएं।

निर्जला एकादशी का महत्व:

निर्जला एकादशी हिंदुओं के सबसे कठिन एकादशी पालनों में से एक है। यह एकादशी अत्यंत पवित्र है और समृद्धि, आनंद, दीर्घायु और मोक्ष प्रदान करती है। निर्जला एकादशी व्रत अन्य एकादशियों के संयुक्त गुणों को अपने उपासक को प्रदान करता है। इस कारण जो भक्त हिंदू वर्ष की शेष 23 एकादशियों का पालन नहीं कर सकते हैं, उन्हें एक साथ सभी लाभ प्राप्त करने के लिए निर्जला एकादशी का व्रत रखना चाहिए। यह हिंदू तीर्थ स्थलों की यात्रा से अधिक पवित्र है। निर्जला एकादशी मानसून से पहले होती है और इसलिए शरीर को शुद्ध करने में सहायता करती है। यह भी एक लोकप्रिय धारणा है कि मृत्यु के बाद निर्जला एकादशी व्रत के पालनकर्ता को सीधे ‘वैकुंठ’ ले जाया जाता है, जो भगवान विष्णु का निवास स्थान है।

निर्जला एकादशी की तिथि और समय

निर्जला एकादशी तिथि शुक्रवार, 10 जून 2022 को सुबह 07 बजकर 27 मिनट से शुरू होकर अगले दिन शनिवार, 11 जून 2022 को सुबह 05 बजकर 47 पर समाप्त होगी।

• 11 जून को पारण का समय – दोपहर 01:44 बजे से शाम 04:32 बजे तक
• पारण दिवस पर हरि वासरा समाप्ति क्षण – 11:09 AM
• गौना निर्जला एकादशी शनिवार, जून 11, 2022
• 12 जून को, गौना एकादशी के लिए पारण का समय – 05:23 AM से 08:10 AM
• द्वादशी तिथि पारण दिवस पर सूर्योदय से पहले समाप्त हो जाएगी।

नोट:

ये व्रत सबसे सख्त और पवित्र है। किसी भी प्रकार की बीमारी वाले या दवा लेने वाले लोगों को सलाह दी जाती है कि वे निर्जला एकादशी का व्रत न रखें। ऐसे भक्तों के लिए आंशिक उपवास को मंजूरी दी जाती है, क्योंकि कठोर उपवास नियमों की तुलना में भगवान की भक्ति अधिक आवश्यक है।

Leave a Reply